विशेष - श्रीमदभागवत महापुराण कथा, पितृ दोष शांति निवारण , कालसर्प दोष, संगीतमय सुंदर कांड पाठ ....
।। अभिमंत्रित राशि - नग व धागे ।।

Abhimantrit Abhimantrit

विभिन्न राशि अनुसार विभिन्न नग पहनने का परामर्श प्रायः दिया जाता है । किसी भी नग की पूजा , प्राण प्रतिष्ठा , नग पहनने से पहले करा लेनी अत्यंत आवश्यक है । सही मंत्रो के उच्चारण के बाद पूजा करके, नग को धारण करने से उसका पूर्ण प्रभाव रहता है एंव लाभ भी प्राप्त होता है ।

पंडित गिरीश शर्मा जी द्वारा नगों की पूजा करवाने एंव अलग -अलग राशि के अनुसार विशेष रूप से अभिमंत्रित किये हुए धागे पाने के लिए संपर्क करे |